Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें

मुनिया हो या रजिया,
वही शिकारी, वही जाल,
फँसी दंरिदों में बुलबुल,
सोच रहे मां – बाप,
कैसे बचायें लाडली अपनी,
कैसे बदलें यह हालात…. ….???

इसका है बस इतना हल,
न बनो, न बनाओ लाचार,
अपनी लाडली करो सुरक्षित,
पहनाकर शिक्षा का गहना,
देकर जागरूकता का हथियार !!!

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत).
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)
दिनांक :- १५.०४.२०१८.

Language: Hindi
218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
बदलते हुए लोग
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
दुनियादारी में
दुनियादारी में
surenderpal vaidya
*सर्दी का मौसम है प्यारा(हिंदी गजल/ गीतिका)*
*सर्दी का मौसम है प्यारा(हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
बाल कहानी- टीना और तोता
बाल कहानी- टीना और तोता
SHAMA PARVEEN
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
#अबोध_जिज्ञासा
#अबोध_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ख्वाब हो गए वो दिन
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
दुआ
दुआ
Alok Saxena
सुधार लूँगा।
सुधार लूँगा।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बताकर अपना गम।
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
Loading...