Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
Apr 28, 2022 · 1 min read

बेटी का संदेश

माँ तु बड़ी प्यारी है।
तु बहुत भोली-भाली है।
तु मुझे बचपन में गुड़ियाँ बुलाती थी,
तेरे प्यार का यह नाम मुझे
बहुत प्यारा लगता था।

पर माँ एक बात कहूँ तुमसे,
अब न तू मुझे बचपन में
गुड़िया या परी न बुलाना।
पुकारना ही हो प्यार का नाम
तो मुझे झांसी की रानी कहकर पुकारना।

बचपन में माँ मुझे परी की
कहानी न सुनाना।
सुनानी हो कहानी माँ तो
नारी की वीर गाथा सुनाना।
लोरी मैं भी माँ नारी का वीर रस ही सुनाना।

माँ में यह सब इसलिए बोल रही हूँ ,
क्योंकि , तुम मुझे प्यार से
गुड़ियाँ बुलाया करती थी ।
पर माँ जमाने ने मुझे गुड़िया
और परी समझ लिया।

जिसका जब मन हुआ गुडियां समझकर ,
मूझसे खेलने लगा,
मेरे जज्बातों को भी माँ
गुड़िया की भाँति बेजान कर दिया।

किसी ने खेला, किसी ने तोड़ा,
किसी ने मुझको फेक दिया।
गुड़िया समझकर माँ जिसको
जब मन चाहा उसी
ने मुझको मसल दिया।
माँ मै कभी जिन्दा लाश बन कर रह गई ,
और कभी सच मैं लाश बन गई।

माँ मुझे परी भी न बुलाना
सब परी की तरह मुझे
पाने की चाह रखते हैं
मैं अब उनकी चाहत का
हिस्सा नहीं बनना चाहती है।

पर माँ अब मुझे ऐसे नही जीना है।
अब माँ मुझे भी अपने लिए लड़ना है।
माँ अब तुम्हारी यह जिम्मेदारी है
मुझे बचपन से इतना मजबूत कर दो
ताकि मैं अपने लिए हमेशा लड़ सकूँ।
और अपने पर होने वाले
शोषण को रोक सकूँ।

~अनामिका

3 Likes · 115 Views
You may also like:
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
Fast Food
Buddha Prakash
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
गांव के घर में।
Taj Mohammad
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
क्रांतिसूर्य
"अशांत" शेखर
विसाले यार
Taj Mohammad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पिता
Rajiv Vishal
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
एक संकल्प
Aditya Prakash
Loading...