Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2021 · 1 min read

बेटी का बाप हूँ ना

देख ना लू बेटी को, तब तक
नीद नही आती
बैठा रहता हूं चौखट पर, जब तक
घर नही आती
फोन की तसल्ली कम रहती है, बेटी का बाप हूँ ना
बेटी जान नही पाती
कहती है सो लिया करो नींद भर बाबा, जब तक
मैं घर नही आती
भरोसा है बहुत उस पर, मगर क्या करूँ
मुझमे हिम्मत नही आती
प्यार कैसा है, मेरी बच्ची मुझे बच्चा समझती है
बस बता नही पाती
घुंघरू झंकाती फिरती थी, मेरी आंखों से
वो यादें नही जाती
प्यार बढ़ता गया उम्र सा, पर अमानत किसी की
हमेशा रखी नही जाती
पीले हाथो की सोचकर रो पड़ता हूँ, बेटी की बिदाई
मुझसे देखी नही जाती
जब तक जान न लूँ, बिटिया ठीक है
नींद नही आती

2 Likes · 6 Comments · 164 Views
You may also like:
दुआ
Alok Saxena
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
'नज़रिया'
Godambari Negi
✍️✍️कश्मकश✍️✍️
'अशांत' शेखर
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
नए नए जज़्बात दे रहा है।
Taj Mohammad
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
मन का पाखी…
Rekha Drolia
✍️अपने .......
Vaishnavi Gupta
वफ़ा ना निभाई।
Taj Mohammad
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
एक प्रश्न
Aditya Prakash
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
दिल का करार।
Taj Mohammad
मेरी ईद करा दो।
Taj Mohammad
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
गरीबी तमाशा बना
Dr fauzia Naseem shad
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...