Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 19, 2022 · 1 min read

बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)

ससुराल की पहली सुबह
अलार्म की घंटी बजी
माँ बंद करो, माँ बंद करो
अध की नींद मे रोज की तरह,
मैं तुमसे कहने लगी।

अध पलक आँखो तुम्हे ढूंढा
पर तुम मुझे नहीं दिखी
न बंद होता देख अलार्म
मैं खुद ही जाग गई।

तब झट याद आया माँ
मैं अब मैके में नहीं
ससुराल मे हूँ आ गई।
पुरा बदन काँप गया माँ
डर सी हो चली।

कितने ही प्रश्न मन में
एक साथ उमड़ पड़ी।
झट बिस्तर छोड़ माँ
नित्य कार्यों से निपट
लोगो के पास जाकर
खड़ी हो गई।

फिर सब से पूछा!
और चाय बनाने चली गई।
चाय बनाते हुए ,
तेरी याद आ रही थी।

तुम्हें मैने कब चाय बनाकर
पिलाया था,
याद नही आ रही थी।
क्योंकि मेरे उठने से पहले
तुम चाय ले आती थी।

पर आज तेरी यह बेटी
अपनी गृहस्थी सम्भालने
जा रही थी।
अपने इस नए घर के तौर-तरीके
अपनाने जा रही थी।

सब कुछ था यहाँ माँ
बस तेरा प्यार और
तेरे यहाँ न होने का एहसास
मुझे रूलाए जा रही थी।

~अनामिका

4 Likes · 97 Views
You may also like:
कविराज
Buddha Prakash
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
लत...
Sapna K S
बाबू जी
Anoop Sonsi
# स्त्रियां ...
Chinta netam " मन "
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
मनमीत मेरे
Dr.sima
"मेरे पापा "
Usha Sharma
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
वेवफा प्यार
Anamika Singh
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
अनोखी सीख
DESH RAJ
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
Loading...