Sep 28, 2016 · 1 min read

बेटी आ रही है आज

जब से सुना है पापा ने
कि बेटी आ रही है आज,
खुशी आँखों में समायी है
उमंग ह्रदय में छायी है,
लगे हैं तैयारी में
पसंद का सामान जुटाने में ,
वो इतने खुश नजर आएँ
खशी ह्रदय में न समा पाए,
आँखों से छलक जाए
होठों पर उतर आए ,
वो यादें ताजा करते हैं
बेटी की बातें बतातें हैं ,
वो गाड़ी आने से पहले ही
स्टेशन पहुँच जाते है,
कितनी देर है आने में
बस ये ही बाट जोहते हैं ,
बेटी की प्रतीक्षा का
पल पल भारी लगता है,
गाड़ी विलंब होने पर
समय मुश्किल से कटता है,
खुशी का नहीं ठिकाना है
जब बिटिया को देखा है,
सिर पर हाथ फिरा करके
ह्रदय से लगाया है,
कितने दिनों में आयी हो
प्रश्न ये ही उठाया है,
कितनी कमजोर हो गयी हो
ध्यान अपना नहीं रखती हो,
चलो घर अब जल्दी से
माँ राह देखती है,
तुम्हारे स्वागत में वो
पलकें बिछाए बैठी है,
तुम्हारी पसंद के खाने से
रसोई आज सजायी है,
बड़ी ममताट से उसने आज
चीजें सब बनायी हैं ।
बेटी आज बहुत दिनों में
माँ के घर आयी है ,
पति की इजाजत लेकर वो
पिता से मिलने आयी है ,
बेटी आज बहुत दिनों में
माँ के घर आयी है ।
बेटी आज बहुत दिनों में
माँ के घर आयी है ।

डॉ रीता
28/9/16
आया नगर,नई दिल्ली ।

227 Views
You may also like:
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
The Magical Darkness
Manisha Manjari
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
पिता
Buddha Prakash
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
पिता
Rajiv Vishal
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
*सोमनाथ मंदिर 【गीत】*
Ravi Prakash
**किताब**
Dr. Alpa H.
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
Loading...