Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

‘बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं’

ममता के सदन में
किलकारियाॅं भर जाती हैं।
अपनी नव-चेतना से
दुश्वारियाॅं हर जाती हैं।
रौनक से घर को भर,
हॅंसती-खिलखिलाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

कभी ना झुंझलाती,
न बातों में उलझाती हैं।
समय पर लाडो बन,
दवा भी खिलाती हैं।
कभी-कभी यूॅं ही बस
गले लग जाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

जीवन के पेंचोख़म
पल में समझ जाती हैं।
अस्मत पर आती तो
शिला बन जाती हैं।
दुश्मनों के सामने न
हौंसला डिगाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

हुलस-हुलस दादी औ
नानी को रिझाती हैं।
छोड़ती हैं मायका तो
सभी को रूलाती हैं।
नैहर की देहरी पर
शीश वो नवाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

कितनी दुलारी हों
भूल मगर जाती हैं।
बंदिशें ससुराल की भी
खूब वो निभाती हैं।
सेवा में अपनों की
ख़ुद को बिसराती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

मायके की यादें
ससुराल में छुपाती हैं।
बिना गिले-शिकवों के
रिश्ता हर निभाती हैं।
पीढ़ियों को जोड़ने में
ख़ुद भी बिखर जाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

पूरी कर देती हैं,
सपनों की अल्पना को।
ललकार देती हैं,
व्यर्थ की हर वर्जना को।
रूढ़ियों के पर्वतों को
चीर, पथ बनाती हैं।
बेटियाॅं भी जाने किस
दुनिया से आती हैं।।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

4 Likes · 8 Comments · 126 Views
You may also like:
✍️बहोत गर्मी है✍️
'अशांत' शेखर
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
दहेज़
आकाश महेशपुरी
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
Anis Shah
मुझको रूलाया है।
Taj Mohammad
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
प्रेम की किताब
DESH RAJ
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
भूल ना पाऊं।
Taj Mohammad
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
आज के रिश्ते!
Anamika Singh
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
” REMINISCENCES OF A RED-LETTER DAY “
DrLakshman Jha Parimal
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
मन
शेख़ जाफ़र खान
नवगीत
Mahendra Narayan
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*संस्मरण*
Ravi Prakash
Loading...