Sep 24, 2016 · 1 min read

बेटियां

“पुनीत जी आपकी बेटी बहुत प्रतिभावान है ,उसे अच्छे से अच्छे कॉलेज में बार बार कह रही थी। आज मेरी बेटी नेहा बारहवी की परीक्षा में पूरे जिले में पहले स्थान पर आई थी।
मगर मेरा मन दूसरी ही उलझन मे था।”दो बेटे और है मेरे ,मुझे उनकी पढाई पर भी ध्यान देना है,घर पर जो लोन चल रहा है उसकी भी किश्ते देनी होती है। आखिर मेरे बेटे ही बुढ़ापे में मेरा सहारा होंगे,नेहा की शादी करनी होगी। उसके लिए भी पैसे जुटाने है।”
ये सब सोचते सोचते मै घर पंहुचा। नेहा मुस्कुराती हुई पास आई और बगल में बैठ गयी।उसकी आँखों में एक बड़प्पन था।वो कहने लगी
—“पापा,मै जानती हूँ मैम ने आप से शायद ये ही कहाँ होगा -क़ि आप मुझे आगे और अच्छे कॉलेज में पढाये ,मगर मै जानती हूँ,हमारे घर के हालात ऐसे नहीं है की मेरी पढाई आगे भी रेगुलर की जा सके ।भैया को भी पढाना है आगे। आप परेशां मत होना,मै घर रहकर ही आगे पढूंगी।
कोई बात नहीं ,मेरे दोनों भाई भी खूब पढ़े ,मै भी तो यही चाहती हूँ।”
ये कहते हुए उसकी आखें नम थी।मगर मै खुद को नहीं रोक सका ।
नेहा को गले लगाते हुए ,मेरा गला रुंध गया और आँखों से आसूं फूट पड़े।
मन में बार बार बस यही शब्द गूंज रहे थे-” शायद इसीलिए बेटियां घर की लक्ष्मी होती है”!
और मैंने फैसला किया की मेरी बेटी भी आगे अपनी पढाई पूरी करेगी।
#रजनी

2 Comments · 296 Views
You may also like:
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
सच्चा प्यार
Anamika Singh
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
सुमंगल कामना
Dr.sima
पिता
Dr.Priya Soni Khare
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढह गया …
Rekha Drolia
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
"साहिल"
Dr. Alpa H.
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
Santoshi devi
Loading...