Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2021 · 2 min read

” बेटियांं “

क्या होगा सुनीता की माँ… किसी तरह तो दो बेटियों की शादी अच्छे घरों में कर पाया , निशा के विवाह की चिंता हो रही है । आप इतनी चिंता मत किजिये कहते हैं लड़कियाँ अपना भाग्य ले कर आती हैं कहते हुये शैला चाय परोसने लगी ।
चाय पीते हुये बोली…सारी तैयारियां तो मैने कर ली है बस गहने और विवाह का खर्चा रह गया है ।
अरे सुनती हो सुनीता की माँ… दोनों थोड़ी देर में आती होगीं फिर तुम्हे रसोई में जाने नहीं देगीं , जल्दी से उनके मनपसंद का खाना बना कर आ जाओ । सब तैयार है कहती हुई शैला और निशा रसोई से बाहर आ गई ।
कुछ ही देर में घर बेटियों और नाती – नातिन से गुलजार था , बच्चे खाना खा कर खेलने चले गये और तीनों बेटियां माँ – पापा के साथ बात करने बैठ गईं…नीशा अपनी बड़ी दीदी सुनीता के बहुत करीब थी और सुनीता की जान भी उसमें बसती ।
छोटी आशा से बस एक साल छोटी होने से दोनों दोस्त जैसी थीं…मैं एक बात बोलूँ सुनीता ने कहा…हाँ हाँ बोल बेटा पापा ने बड़े प्यार से कहा , पापा हम दोनों की एक बात मानेगें ?
ये भी कोई पूछने की बात है हँसते हुये कहा उन्होंने…इतना सुनना था कि सुनीता ने झट अपना सूटकेस खोला और गहनों के कुछ डब्बे सामने रख दिये…ये हमारी तरफ से निशा के लिए और हाँ विवाह का खर्चा भी हम करेगीं , कसम है आप दोनों को जो मना किया । ये सुनते ही फफक पड़े माँ – बाप ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा , 03/06/2021 )

2 Likes · 137 Views
You may also like:
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
मुश्किलात
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
खामों खां
Taj Mohammad
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
कैसा मोजिजा है।
Taj Mohammad
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
अधुरा सपना
Anamika Singh
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पैरहन में बहुत छेद थे।
Taj Mohammad
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
मुंशी प्रेमचंद, एक प्रेरणा स्त्रोत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हे दीन,दयाल,सकल,कृपाल।
Taj Mohammad
साँझ
Alok Saxena
Loading...