Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बेटियाँ

बेटियां हर्ष का कारण है
बेटियो से हर्षित आंगन है
बेटियां जन्म जब लेती है
हो जाता घर ये पावन है
जब घर छोडकर विदा हुई
आंखे मे आता सावन है
बेटियां दिखी घर आने पर
हर्षित होता तन मन है।

1 Like · 1 Comment · 208 Views
You may also like:
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
महँगाई
आकाश महेशपुरी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
पिता
Buddha Prakash
पहचान...
मनोज कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Nurse An Angel
Buddha Prakash
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...