Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बेटियाँ

???
घर आँगन की शोभा….
हैं ये हमारी बेटियाँ
इनकी हँसी से खिल उठता है,
हमारे घर का कोना – कोना।
?लक्ष्मी सिंह

????
बेटियाँ होती है फूल सी….
मन नाजुक कोमल पंखुरी सी…..
—लक्ष्मी सिंह?

298 Views
You may also like:
कर्म करो
Anamika Singh
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इज्जत
Rj Anand Prajapati
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
मजदूर
Anamika Singh
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️✍️ओढ✍️✍️
"अशांत" शेखर
रिश्ते
Saraswati Bajpai
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसा मोजिजा है।
Taj Mohammad
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
सुन री पवन।
Taj Mohammad
वो
Shyam Sundar Subramanian
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
Loading...