Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 1 min read

बेटियाँ

बेटियाँ ही तो अनमोल दौलत
बेटियाँ है मधुबाला, मधुकली
चहक-महक रौनक है आँगन में
इस जग में बेटियाँ है निराली

जग की चेतना है ,कल्पना है ,
सूरज,चांद,धरती है बेटियाँ
आज और कल इसी के बदौलत
खुशियां,भाग्य लक्ष्मी है बेटियाँ

लजीली,छबीली है, बुलबुल है
बबीता सी प्यारी है बेटियाँ
चिर-अनंत खुदा की उपहार है
कल्पवृक्ष की डाली है बेटियाँ

परायी नहीं राजकुमारी है
घर की नित सम्मान है बेटियाँ
साहसी दुर्गा,लक्ष्मी की जैसी
हर घर की पहचान है बेटियाँ

उसे भी छूं लेने दे गगन को
आज उसे करने दो सपना सच
वास्तविक सत्य है इस नियति की
बिन बेटियाँ न हमसब ना ये जग

रचनाकार:-दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांस”

Language: Hindi
Tag: कविता
329 Views
You may also like:
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहानी "दीपावाली का फटाका" लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा,सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
हठीले हो बड़े निष्ठुर
लक्ष्मी सिंह
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
'अशांत' शेखर
आस्तीक भाग-आठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गीत
शेख़ जाफ़र खान
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
देखकर सूरत खूबसूरत
gurudeenverma198
" शिवोहम रिट्रीट "
Dr Meenu Poonia
पुरानी यादें
Palak Shreya
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
समझदारी - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
* चांद बोना पड गया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
औरतें
Kanchan Khanna
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
“ प्रतिक्रिया ,समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
Loading...