Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 17, 2022 · 1 min read

बेजुबान

देख बेजुबान जानवर को
आज मन में ख्याल आया।
कितना तेजी से बदल रहा है समय,
आज जुबान वाले से तो अच्छा,
ये बेज़ुबान वाले होते जा रहे हैं।

हम इंसान सिर्फ कहने के लिए
अब इंसान रह गये हैं,
वर्ना हम तो जानवर से भी
नीचे गिरते जा रहे हैं।

कल तक प्रेम, वफादारी
निभाने वाला इंसान,
आज यह सब भूल रहा है।
ये बेजुबान जानवर अब हमें
इसका पाठ पढ़ा रहा हैं।

कल तक हम जानवरों को
हिंसक कहा करते थे।
इसकी हिंसक प्रवृति को
लेकर हमेशा डरा करते थे।
पर आज जब हमनें अपने तरफ देखा,
तो हमें एहसास हुआ कि हमलोग
अब जानवर से भी ज्यादा हिंसक हो गये हैं।

यह बेजुबान तो पेट भरने के लिए
हिंसा किया करता है,
और हमलोग तो बातों -बातों में
हिंसा पर उतर आते है।

अब हमें अपनो से भी अपनो का,
खून बहाने मे कोई गुरेज नहीं है।
क्योंकि आजकल हमलोग अपने स्वार्थ
को सबसे ऊपर रखने लगे हैं।

कैसा हो रहा है इंसान की प्रवृत्ति,
हमें समझ में नही आ रहा है।
जिस अतीत को छोड़कर
हम इंसान बने थे।
आज फिर क्यों उसी
अतीत की तरफ लौट रहा है।

ऐसा लग रहा है कि जानवर
अब इंसान होते जा रहे हैं,
और हम इंसान जानवर बनने
के तरफ अपना कदम तेजी से बढ़ा रहे हैं।

~अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 82 Views
You may also like:
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
बर्षा रानी जल्दी आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेटी....
Chandra Prakash Patel
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
सूरज काका
Dr Archana Gupta
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
चाय की चुस्की
श्री रमण
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख ********
Ravi Prakash
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
Loading...