Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2022 · 1 min read

बेचारी ये जनता

बेचारी ये जनता
———००——-
गौतम गांधी के आंगना में
बिन नुपुर नाचे अराजकता ,
अराजकता के चक्रवात में
जनमन रोपित वैमनस्यता।
खून खराबा फसाद ये दंगे
दिन रात क्षरण हो रही मानवता,
बेगुनाह निरीहो के खून में
रंगी मुल्क की धर्मनिरपेक्षता।
नफरती हलाहल फैलाने में
मरुस्थल बनती नैतिकता ,
नेताशाही नित रहे ठाठ में
प्रिय प्रजातंत्र की विशेषता ।
टांग खींच और उठा पटक में
मद्य मस्त हुए हैं ये नेता ,
दब गई मंहगाई के पग तले
दीन हीन बेचारी ये जनता ।
चीर हरणो की चीख नारी में
दहेज बेदी में लटकती सुता ,
बेरोजगार सड़क नाप थके
कार्य करें वो अवैधानिकता ।
———————————–
शेख जाफर खान

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 12 Comments · 379 Views
You may also like:
कवि और चितेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️ओ कान्हा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️समतामूलक प्रकृति…
'अशांत' शेखर
आतुरता
अंजनीत निज्जर
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
कौन हो तुम….
Rekha Drolia
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
चालीसा
Anurag pandey
फ़ितरत रखते अगर बदलने की
Dr fauzia Naseem shad
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
#धरती-सावन
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
आस्तीक भाग-आठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
ऐ उम्र
Anamika Singh
रोग से गर्दन अकड़ी( कुंडलिया)
Ravi Prakash
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"तब घर की याद आती है"
Rakesh Bahanwal
प्रदूषण के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...