Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बेचारी ये जनता

बेचारी ये जनता
———००——-
गौतम गांधी के आंगना में
बिन नुपुर नाचे अराजकता ,
अराजकता के चक्रवात में
जनमन रोपित वैमनस्यता।
खून खराबा फसाद ये दंगे
दिन रात क्षरण हो रही मानवता,
बेगुनाह निरीहो के खून में
रंगी मुल्क की धर्मनिरपेक्षता।
नफरती हलाहल फैलाने में
मरुस्थल बनती नैतिकता ,
नेताशाही नित रहे ठाठ में
प्रिय प्रजातंत्र की विशेषता ।
टांग खींच और उठा पटक में
मद्य मस्त हुए हैं ये नेता ,
दब गई मंहगाई के पग तले
दीन हीन बेचारी ये जनता ।
चीर हरणो की चीख नारी में
दहेज बेदी में लटकती सुता ,
बेरोजगार सड़क नाप थके
कार्य करें वो अवैधानिकता ।
———————————–
शेख जाफर खान

5 Likes · 8 Comments · 186 Views
You may also like:
'खिदमत'
Godambari Negi
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
"अशांत" शेखर
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
क्यों मेरा
Dr fauzia Naseem shad
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Little sister
Buddha Prakash
अपना अंजाम फिर आप
Dr fauzia Naseem shad
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr.Alpa Amin
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
फिर तुम उड़ न पाओगे
Anamika Singh
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम की किताब
DESH RAJ
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...