Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बेखुदी मे अश्क आँखों से बहाता ही रहा मै – गज़ल

गज़ल

बेखुदी मे अश्क आँखों से बहाता ही रहा मै
सह लिया खुद दर्द लोगों को हसाता ही रहा मै

देख अन्जामे मुहब्बत आज भी हैरान सा हूँ
गम खरीदे खुद तो खुशिओं को लुटाता ही रहा मै

आइना सच बोलता है राज आँखों के न खोले
िस मु ब्बत को जमाने से छुपाता ही रहा मै

साहिलों की साजिशों मे एक कतरा क्या करे
संग लहरों के उछल कर छट पटाता ही रहा मै

गाँव छोडा जब शह्र की रंगीनियों ने था लुभाया
रौनकों के बीच भी पर रोज तन्हा ही रहा मै

क्यों लबों पर रोज पहरा सा बिठा देता रहे वो
बाहरा चुप सा रहे लेकिन बुलाता ही रहा मै

बाद मुद्द्त के मिला जैसे हो कोई अजनबी सा
याद कर जिसको कई सपने सजाता ही रहा मै

3 Comments · 332 Views
You may also like:
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
Loading...