Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2020 · 1 min read

{{ बेखबर }}

रात एक रूह तड़प के मर गयी ,,
और एक ज़िस्म था, जो बेखबर सोया रहा,,

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 309 Views
You may also like:
कितने सावन बीते हैं
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्दिशों में तारे छुपाए बैठे हैं।
गर्दिशों में तारे छुपाए बैठे हैं।
Taj Mohammad
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
भोक
भोक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जय अग्रसेन महाराज
जय अग्रसेन महाराज
Dr Archana Gupta
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
हम-सफ़र
हम-सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
अंधेरा मिटाना होगा
अंधेरा मिटाना होगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेनागा एक न एक
बेनागा एक न एक
*Author प्रणय प्रभात*
मैल
मैल
Gaurav Sharma
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Aadarsh Dubey
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
Ram Krishan Rastogi
कभी कम नहीं हो यह नूर
कभी कम नहीं हो यह नूर
gurudeenverma198
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane chale the ha
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane...
Sakshi Tripathi
🚩आगे बढ़,मतदान करें।
🚩आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैंने खुद को बदल के रख डाला
मैंने खुद को बदल के रख डाला
Dr fauzia Naseem shad
जिल्लेइलाही की सवारी
जिल्लेइलाही की सवारी
Shekhar Chandra Mitra
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*कहने को सौ बरस की, कहानी है जिंदगी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*कहने को सौ बरस की, कहानी है जिंदगी (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
कुकुरा
कुकुरा
Sushil chauhan
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
✍️वास्तव....
✍️वास्तव....
'अशांत' शेखर
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
विजय कुमार नामदेव
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
Loading...