Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

!¡! बेखबर इंसान !¡!

नासमझ और बेखबर, होता क्योंकर इंसान
सोच समझ न कर्म करे, होवे क्यों मूर्ख समान
नासमझ और बेखबर………
1) दूजों को दुखड़े देकर, क्यों खुश होकर मुस्काता है
जो जैसा बोता है वह नित, वैसा ही फल पाता है
कर्म लेख नहीं मिटता प्यारे, नष्ट करो मन के अज्ञान
नासमझ और बेखबर………
2) तेरी आंखें देख रही हैं, कोई नहीं तुझे देख रहा
भ्रम में मत रहना बंदे, लिखने वाला कब से लिख रहा
अभी किया, फल अभी मिलेगा, घूमे क्यों बनकर नादान
नासमझ और बेखबर…………
3) अंत समय में पछताए, उससे पहले ही पछताले
झूठ – असत्य के पैर नहीं, फिर लगे मिलें सारे ताले
वक्त कहर बन बरसे, हो ले पहले से सावधान
नासमझ और बेखबर…………
लेखक:- खैमसिंह सैनी
M.A, B. Ed. From Rajasthan
Mob. No. 9266034599

5 Likes · 6 Comments · 240 Views
You may also like:
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पानी का दर्द
Anamika Singh
किसान की आत्मकथा
"अशांत" शेखर
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
आज फिर
Rashmi Sanjay
नवगीत
Mahendra Narayan
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
# पिता ...
Chinta netam " मन "
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
अजीब कशमकश
Anjana Jain
भारत
Vijaykumar Gundal
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
Loading...