Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
May 16, 2022 · 1 min read

बेकार ही रंग लिए।

बेकार ही रंग लिए तुमने अपने हाथ हमारे खून से।
मांग लेते हमसे हमारी जान तो हम दे देते सुकून से।।1।।

तुम हमेशा ही बस गुर्बत का बहाना बना देते हो।
गर इंसा ठानले तो सब पा जाता है अपने जुनून से।।2।।

हर दिल का अहसास जुदा होता है यूं इंसानों में।
यहां रीति रिवाज ना चलते है किसी भी कानून से।।3।।

तुम यूं ही सफर में चलते रहना थोड़ा-थोडा सा।
यूं ज्यादा दूर ना हो अब तुम मंजिल ए मकसूद से।।4।।

कतरा कतरा जमा करके उसने बनाया है ये घर।
जहां में समन्दर बना है पानी की एक-एक बूंद से।।5।।

जादू सा हुनर है उसके पास सब पे लिखने का।
यह अल्फाज़ ही उसकी आवाज़ है हर मजमून पे।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

60 Views
You may also like:
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
बदला
शिव प्रताप लोधी
हम जलील हो गए।
Taj Mohammad
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
थोड़ी मेहनत और कर लो
Nitu Sah
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
ताला-चाबी
Buddha Prakash
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
फूल की महक
DESH RAJ
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...