Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author

बूँद-बूँद को तरसा गाँव

बूँद-बूँद को
तरसा गाँव ।

बोर खुदे
पाइपलाइन है,
घरों-घरों में
टोंटी नल है ।
कुएँ बहुत हैं
ताल खुदे हैं,
कहीं न लेकिन
किंचित जल है ।

सूखे पत्ते
रूठी छाँव ।

गैयें प्यासीं,
बकरीं प्यासीं,
गौरैया में
छाई उदासी ।
तितर-बितर हैं
जीव-जन्तु भी,
प्यासा उल्लू
भरे उँघासी ।

कौओं की भी
सूखी काँव ।

उधर प्यास है,
इधर प्यास है,
प्यास खोजती
किधर प्यास है ।
खोज-खोज कर
लाते पानी
कुछ लोगों
का ही प्रयास है ।

उल्टे पड़ते
सारे दाँव ।

बूँद-बूँद को
तरसा गाँव ।
— ईश्वर दयाल गोस्वामी

6 Likes · 8 Comments · 160 Views
You may also like:
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
निशां मिट गए हैं।
Taj Mohammad
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
Colourful Balloons
Buddha Prakash
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...