Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#24 Trending Author
May 6, 2022 · 1 min read

बुलंद सोच

जिंदगी को मत कोसो
आगे बढ़ो…।
जो… आगे की सोचता हैं
वही.. मंजिल को छूता हैं ।।
मुसीबतें तो गहरी खाई हैं
पर…धैर्य और समज दोनों
ऐसे पहलु हैं…
जो… विपरीत स्थिति में भी
हमें आबाद..और.. सलामत रखतें हैं …।।।।

93 Views
You may also like:
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
मंज़िल
Ray's Gupta
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
किसान
Shriyansh Gupta
इश्क भी कलमा।
Taj Mohammad
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
ए बदरी
Dhirendra Panchal
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️हम भारतवासी✍️
"अशांत" शेखर
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
Loading...