Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2022 · 1 min read

बुरी आदत की तरह।

मैं चाह कर भी उसे छोड़ सकता नहीं।
वो मुझमे बसा है बुरी आदत की तरह।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

86 Views
You may also like:
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
✍️दम-भर ✍️
'अशांत' शेखर
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
✍️तर्क✍️
'अशांत' शेखर
✍️दो और दो पाँच✍️
'अशांत' शेखर
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
💐संसारे कः अपि स्व न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
आया आषाढ़
श्री रमण 'श्रीपद्'
वक़्त तबदीलियां भी
Dr fauzia Naseem shad
ऐ उम्र
Anamika Singh
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
Loading...