Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author
May 5, 2022 · 1 min read

बुरा तो ना मानोगी।

जरा सामने बैठो जी भर कर देख लूं तुमको।
बुरा तो ना मानोगी अगर थोड़ा प्यार कर लूं तुमको।।

शायद अब मुलाकात हो नो हो यूं जिंदगी में।
बाहों में समेट कर के थोड़ा महसूस कर लूं तुमको।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

71 Views
You may also like:
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
परिवार
Dr Meenu Poonia
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
इश्क है यही।
Taj Mohammad
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिसाइल मैन
Anamika Singh
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
सुमंगल कामना
Dr.sima
समय
AMRESH KUMAR VERMA
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
कालचक्र
"अशांत" शेखर
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
✍️✍️नींद✍️✍️
"अशांत" शेखर
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
शून्य से अनन्त
D.k Math
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
Loading...