Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बुद्ध

बुद्ध हो जाने का अर्थ
नही था महज़ घर छोड़ना और संन्यासी हो जाना
बल्कि इस कष्टदायक संसार से मुक्त हो जाना
जो है पीड़ाओं और तृष्णाओं का कोना,
हाँ बहुत ही मुश्किल था बुद्ध का बुद्ध हो जाना
इस जग को मुक्ति का मार्ग दिखाना
कर्मों का हिसाब सिखाना
एकाग्रता और नैतिकता का ज्ञान देना
सत्य और अहिंसा को समझना और समझाना
दया, मधुरता, दान, सदाचार अपनाना
बहुत ही मुश्किल था इंद्रियों पर क़ाबू पाना
राजकुमार बुद्ध का महात्मा बुद्ध हो जाना..

3 Likes · 4 Comments · 313 Views
You may also like:
कोई बात भी नहीं है।
Taj Mohammad
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
✍️✍️वहम✍️✍️
'अशांत' शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
✍️एक चूक...!✍️
'अशांत' शेखर
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
सवालों के घेरे में देश का भविष्य
Dr fauzia Naseem shad
भारत
Vijaykumar Gundal
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
शाम सुहानी सावन की
लक्ष्मी सिंह
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
✍️औरत हूँ ✍️
'अशांत' शेखर
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
✍️किताबें और इंसान✍️
'अशांत' शेखर
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...