Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2022 · 2 min read

बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी

संसार में दो तरह के लोग होते हैं- बुद्धिमान और बुद्धिजीवी। बुद्धिमान लोग वो होते हैं जो सदैव कुछ सीखने, जानने और उसे अपने जीवन में उतारने के लिए तत्पर रहते हैं । ऐसे लोग सदैव संतो , विद्वानों और अनुभव सिद्ध लोगों द्वारा कही गई बातों को ध्यान से सुनते हैं , सार तत्व को समझते हैं और उसका उपयोग अपने जीवन की समस्याओं को हल करने में करते हैं । बुद्धिमान लोग प्रश्न स्वयं से करते हैं और उनके उत्तर संतो , शास्त्रों और विद्वत जनों के कथनों में ढूंढते हैं । बुद्धिमान लोगों के लिए जीवन एक पहेली नहीं अपितु एक खोज होता है जिसमें उन्हें हर कदम पर आनंद का बोध होता है । इसके विपरीत बुद्धिजीवी लोग वो होते हैं जिन्हें अपने अल्प ज्ञान का अत्यधिक घमंड होता है । वह सदैव संतो , विद्वानों और अनुभवसिद्ध लोगों द्वारा कही गई बातों पर प्रश्न खड़े करते हैं और उन्हें चुनौती देते हैं । स्वयं को ज्ञानी सिद्ध करने के लिए संतो और शास्त्रों की खुलेआम आलोचना करते हैं । वो शब्दों में निहित सार तत्व को नहीं समझते सिर्फ शब्दों के मकड़जाल में उलझ कर रह जाते हैं । वह अपने वाक् आडम्बर से यह दिखाने का प्रयास करते हैं कि वे देश और समाज के बहुत बड़े हितैषी हैं । लेकिन यह लोग एक तरह की हीन भावना से ग्रस्त स्वार्थी प्रकृति के लोग होते हैं । अपने को श्रेष्ठ और बेहतर सिद्ध करने के लिए सदैव किसी न किसी से उलझते रहते हैं । इनके लिए जीवन एक संघर्ष होता है और ये अपना बहुमूल्य जीवन व्यर्थ के संघर्ष में निकाल देते हैं ।
बुद्धिमान लोगों का कर्तव्य बोध बहुत दृढ़ और स्पष्ट होता है । वो अपने जीवन को संवारने के साथ-साथ कई अन्य व्यक्तियों के जीवन को भी संवारते हैं । बुद्धिजीवियों का अधिकार बोध बहुत दृढ़ और अडिग होता है । इसके कारण वो अपना जीवन तो बर्बाद करते ही हैं दूसरों का जीवन भी बर्बाद कर देते हैं । अतः अपने जीवन को सफल बनाने के लिए आवश्यक है कि हम सबसे पहले यह सुनिश्चित करें कि हमारी वृत्ति किस तरह की है ।

… शिवकुमार बिलगरामी

1 Like · 107 Views
You may also like:
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यादें आती हैं
Krishan Singh
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम पर्दे के जाने """"""""""""""""""""""'''"""""""""""""""""""""""""""""""""
Varun Singh Gautam
गीता की महत्ता
Pooja Singh
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
सुरज दादा
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
युवता
Vijaykumar Gundal
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
ज़िंदगी याद का
Dr fauzia Naseem shad
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
#15_जून
Ravi Prakash
Loading...