Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बुढापे का दुख

*दो दोहे*
श्रमिक बना सुत ने किया, कितना आज तटस्थ।
हाय बुढापे में हुआ, सतनय पिता दुखस्थ।
*****
बुरा रोग है दीनता, यमघट तक है संग।
क्या युवक क्या वृध्दजन, कर दे ढीले अंग।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

1 Like · 264 Views
You may also like:
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे पापा
Anamika Singh
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
पिता
Manisha Manjari
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
देश के नौजवानों
Anamika Singh
रफ्तार
Anamika Singh
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कशमकश
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
Loading...