Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2022 · 1 min read

बुंदेली दोहे

*बुंदेली दोहे – * बिषय-रिसाने*

*1*
रहें रिसाने मौं बना , रखतइ दिल में रार |
#राना तब विनती करे , ये औगुन बेकार ||

*2*
रहें रिसाने रात दिन , अपनो मौं लटकाँय |
#राना रूखै वें रहे , कछु ना नेंगर पाँय ||

*3*
आप रिसाने क्यों इतै , लिख पढ़‌ करना नेह |
#राना अपनो जानियो , यह बुंदेली गेह ||
***
*राजीव नामदेव ” राना लिधौरी “*
© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com
🥗🥙🌿☘️🍁💐🥗🥙🌿☘️🍁💐

88 Views
You may also like:
पापा
सेजल गोस्वामी
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
कर्म का मर्म
Pooja Singh
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...