Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बुंदेली दोहे

*बुंदेली दोहा बिषय- लबुदिया*

*1*

लंबी सी लय लबुदिया,
लचक लमछरी दार।
लल्ला लरत जितै कऊं,
देती खाल उदार।।
***

*2*

मौड़ा देखो आज कै ,
मानत नइँयाँ बात।
धरौ लबुदिया साथ में
बन जायेगी बात।।
***
*राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़*
संपादक -“आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ बुंदेली त्रैमासिक ई-पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

67 Views
You may also like:
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
शून्य से अनन्त
D.k Math
हमारी धरती
Anamika Singh
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
मेरे पापा।
Taj Mohammad
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
पिता
Ray's Gupta
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
आग
Anamika Singh
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सफर में।
Taj Mohammad
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
शहीद होकर।
Taj Mohammad
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...