Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 2 min read

बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे

#बुन्देली_दोहा_प्रतियोगिता–146
##दिनांक-6-1-2024
संयोजक -राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक-जय बुंदेली साहित्य समूह.

प्राप्त प्रविष्ठियां :-
1
गुलगुलात पापा हते , जब बचपन में ऐन ।
लगत गुलगुलो आज लौ , छलक जात हैं नैन ।।
***
-प्रमोद मिश्रा, बल्देवगढ़
2
बिटिया की ससुरार सैं,पई-पावनें आय।
गद्दा पल्ली गुलगुलो, दीनों सास बिछाय।।
***
-प्रदीप खरे ‘मंजुल’, टीकमगढ़
3
हतो गुलगुलौ जोबदन,सियाराम सुकमार ।
भओ वन गमनरामको,झेलत रय सब मार ।।
***
-शोभाराम दाँगी , नदनवारा
4
गद्दा भारी गुलगुलो, राखें बिछा पलंग।
ओढ़ रजाई गुलगुली, लडे़ं ठंड सें जंग।।
***
-रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.बडागांव झांसी उप्र.
5

होत भरोसा गुलगुलो, बगर तनक में जाय।
जोरैं से फिर नइँ जुरत, कित्तउ करौ उपाय।।
***
-विद्या चौहान, फरीदाबाद
6
सुनकें लग रव गुलगुलौ,भव मंदर तैयार।
गीद रीछ बंदर उतै,कर रय जै जै कार।।
****
-भगवान सिंह लोधी “अनुरागी”,हटा

7 प्रथम स्थान प्राप्त
बिछो गदेला गुलगुलौ,तौउ नींद न‌इँ आत।
हारो थको किसान सो,डीमन में सो जात।।
***
– प्रभु दयाल श्रीवास्तव ‘पीयूष’, टीकमगढ़

8द्वितीय स्थान प्राप्त-
बिछा बिछौना गुलगुलो,भइया भाभी हेत।
खुद पथरा पै बैठकें,पैरौ लक्ष्मन देत।।
***
-रामानन्द पाठक ‘नन्द’,नैगुवां

9
खाव गुलगुलौ गुलगुला, भौत मजा आ जाय।
जीखों नइयां है पतौ, देखौ आजइ खाय।।
***
– वीरेंद्र चंसौरिया, टीकमगढ़

10द्वितीय स्थान प्राप्त-
मन तो हौबे गुलगुलो , नीचट रबै शरीर |
प्रभू भजन में मन लगे , रये न कौनउँ पीर ||
***
-सुभाष ‌सिंघई , जतारा

11
सुरा गुलरियां गुलगुला,कै चीला मिल पाय।
पुआ गुलगुलौ होय तौ,मँगा मँगा कें खाय।।
***
-डां. देवदत्त द्विवेदी, बड़ामलहरा
12
राते गव अँधियार में, लगो गुलगुलो मोय।
देवा ने बचाय लये, करिया मा रव सोय।।
***
– श्यामराव धर्मपुरीकर ,गंजबासौदा,विदिशा
13
चूले येंगर बैठ कैं , राते करी ब्याइ।
हतौ बिछौना गुलगुलौ, सो गय ओड़ रजाइ।।
***
-आशाराम वर्मा “नादान” पृथ्वीपुर,
14
तन हैं जिनके गुलगुले, मन देखों बेकार।
गोरन ने हमपे करें, खूबई अत्याचार।।
***
-विशाल कड़ा, बडोराघाट
15
धरौ गुलगुलौ साँप सौ, बिल्कुल नइँयाँ ह्याव।
यैसे मूसर सें भलाँ, करौ काय खों व्याव।।
***
-अंजनी कुमार चतुर्वेदी, निबाडी
16
गद्दा जैसी गुलगुली,है माता की गोद।
ममता का भण्डार है,रहे मुदित मन मोद।।
***
-आशा रिछारिया जिला निवाड़ी
17
बिछो बिछौना गुलगुलौ,अँखियन नइँयाँ नींद।
जब सें अँखियन में बसी, हरि दर्शन उम्मींद।।
***
-गोकुल प्रसाद यादव, नन्हींटेहरी
18
मिलो बिछौना गुलगुलो,लरका खा पी सोयँ।
खात कमाई बाप की, समव सुहानों खोंयँ।।
***
– अमर सिंह राय, नौगांव
####@@@#####

संयोजक/एडमिन- #राजीव_नामदेव ‘#राना_लिधौरी’, टीकमगढ़
आयोजक- #जय_बुंदेली_साहित्य_समूह_टीकमगढ़
#Jai_Bundeli_sahitya_samoh_Tikamgarh
#Rajeev_Namdeo #Rana_lidhorI #Tikamgarh
मोबाइल नंबर-9893520965
&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&

158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
अनिल कुमार
"खासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
अनुगामी
अनुगामी
Davina Amar Thakral
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
(6) सूने मंदिर के दीपक की लौ
(6) सूने मंदिर के दीपक की लौ
Kishore Nigam
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कुछ लोगों का जीवन में रुकना या चले जाना सिर्फ किस्मत तय करती
कुछ लोगों का जीवन में रुकना या चले जाना सिर्फ किस्मत तय करती
पूर्वार्थ
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
Dheerja Sharma
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
Harminder Kaur
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
2680.*पूर्णिका*
2680.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*कौन जाने जिंदगी यह ,जीत है या हार है (हिंदी गजल)*
*कौन जाने जिंदगी यह ,जीत है या हार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...