Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2023 · 2 min read

बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद

#बुन्देली_दोहा_प्रतियोगिता–139
##दिनांक-18-11-2023
*बिषय- #दाँद बुन्देली_दोहा_प्रतियोगिता–139
##दिनांक-18-11-2023
*बिषय- #दाँद(=अत्याधिक गर्मी, अनावश्यक बहस,उसम )
बुंदेली-दोहा प्रतियोगिता – 139
शनिवार, दिनांक- 18/11/2023
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक-जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़

प्रतियोगिता हेतु आज 16 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई है जिनमें से 2दोहे दोषपूर्ण पाये गये है
एक दोहे के दूसरे चरण में दस मात्राएं है।
जबकि एक दूसरे दोहे का पहला चरण कलन में नहीं है व तीसरा चरण में नगण दोष है। शेष सभी दोहे सही है।
शुभकामनाएं सहित

बुंदेली-दोहा प्रतियोगिता – 139
शनिवार, दिनांक- 18/11/2023
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक-जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़
बिषय- ‘ दाँद ‘

1
प्रतियोगी दोहा
होबै दाॅंद चुनाव में,जाड़ो ऊॅंग हिरात।
नेता कूलें खाट पै,इक -इक गुरा पिरात।।
***
-भगवान सिंह लोधी,हटा
2
दाँद मची भारी इतै, काँसें आव चुनाव।
को जीतै, को हारबै, साँसी मोय बताव।।
***
-प्रदीप खरे मंजुल, टीकमगढ़
3
जे कोऊ करजा करे, सैबू करत दाँद।
परवै ओखाँ नैं कबउँ, महाजनी जा माँद।।
***
– श्यामराव धर्मपुरीकर ,गंजबासौदा,विदिशा म.प्र.
4
उछबड़ कुरता धाँद कें , धर लव मनको राँद ।
अब चुनाव के माँद में , नेतन खाँ भइ दाँद ।।
***
-प्रमोद मिश्रा, बल्देवगढ़
5
दाँद मचा रय कछु जनै , अच्छौ भयौ चुनाव |
वोट न मौरे कयँ दयै , खूब पकर रय ताव ||
***
सुभाष सिंघई , जतारा
6
वाह कह दाँद दे रहे, जनी उड़ात मखोल ।
ताली जैसे ठुकत है,बजा देत हैं ढोल।।
***
डॉ. रंजना शर्मा, भोपाल
7
बंद कुठरिया में लगै,दाँद सई नइँ जात ।
बस में हो च टिरेन में ,गरमी सैं उकतात ।।
***
शोभाराम दाँगी, नदनवारा
8
जाकें जनता के घरै, दाँद नदी है झूँट।
की कौ बैठै तीन खों, कौन करोंटा ऊँट।।
***
अंजनी कुमार चतुर्वेदी, निवाड़ी
9
दाँद परी है हूंक कें,पीठ कुरोरू ऐन।
खुजा खुजा कें हार गय,पल भर मिलो न चैन।।
***
आशा रिछारिया जिला निवाड़ी

10#प्रथम_पुरस्कार_प्राप्त

राज योग की रेख खौं , कोउ बाॅंच नइॅं पात।
दाॅंद करे में का धरौ , है किसमत की बात।।
***
आशाराम वर्मा “नादान ” पृथ्वीपुरी
11
दाॅंद मचा कें धर दई, ऐसो चढौ चुनाव।
दल- दल अपने पैंतरा,खूब लगाये दांव।।
***
रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.बडागांव झांसी उप्र.
12
बुंदेली दोहा
डर गय बोट चुनाव के,बैठे हिम्मत बाँद।
हार जीत की तौ लगै, भीतर सबखों दाँद।।
***
डां देवदत्त द्विवेदी, बड़ामलहरा
13

सत्ता की जिनखों हती,अबलौ बेजाँ दाँद।
उनें हार कें ढूँड़नें, लुकबे कौनउँ माँद।।
***
रामानन्द पाठक ‘नन्द’,नैगुवा

14
तपी दुफैरी गैल में,निगे ततूरी फांद।
जैसइ घर भीतर घुसे,खूबइ मचकी दांद।।
***
-प्रभा विश्वकर्मा ‘शील’, जबलपुर

15#तृतीय_पुरस्कार_प्राप्त

होबै बदरा घाम चय, होबै बेजाँ दाँद।
लयें कुदरिया काड़तइ,कृषक खेत के काँद।।
***
-गोकुल प्रसाद यादव नन्हींटेहरी

16 #द्वितीय_पुरस्कार_प्राप्त
भौत दिना तक आँसती,जा चुनाव की दाँद।
सालन चलती रंजसै, कैउ कुकाउत चाँद।।
***
-एस आर सरल ,टीकमगढ़
#############

संयोजक/एडमिन- #राजीव_नामदेव ‘#राना_लिधौरी’, टीकमगढ़
आयोजक- #जय_बुंदेली_साहित्य_समूह_टीकमगढ़
#Jai_Bundeli_sahitya_samoh_Tikamgarh
#Rajeev_Namdeo #Rana_lidhorI #Tikamgarh
मोबाइल नंबर-9893520965
&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&

1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-270💐
💐प्रेम कौतुक-270💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल साफ होना चाहिए,
दिल साफ होना चाहिए,
Jay Dewangan
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
*Author प्रणय प्रभात*
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
दोस्ती का एहसास
दोस्ती का एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...