Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

बुंदेली दोहा- पैचान१

बुंदेली #दोहा विषय – #पैचान ( #पहचान )

#राना कौनउँ बात से , जुरत कितउँ है ठट्ट |
नेता तब पैचान खौं , घुस आतइ हैं झट्ट ||

जिनकै ऐंगर हौत है , बातन कौ भंडार |
#राना बौ पैचान रख , बनतइ लम्मरदार ||

प्रभु के चरनन हम रयैं , #राना सरल उपाय |
दीन दुखी पैचान कै , उनकै बनौ सहाय ||
*** दिनांक-21-8-23
✍️ #राजीव_नामदेव “#राना_लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
समय की चाल समझ मेरे भाय ?
समय की चाल समझ मेरे भाय ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क़ायम कुछ इस तरह से
क़ायम कुछ इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाईस फरवरी बाइस।
बाईस फरवरी बाइस।
Satish Srijan
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
"गुलजार"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
Ranjeet kumar patre
इजहार ए इश्क
इजहार ए इश्क
साहित्य गौरव
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इंसानियत
इंसानियत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
Ravi Prakash
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
Loading...