Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2022 · 1 min read

“बीते दिनों से कुछ खास हुआ है”

बीते दिनों से कुछ ख़ास हुआ है,
तेरा नाम मेरे लिए अब आम हुआ है,
कुछ ऐसा एजाज़ हुआ तेरा मेरे ख़्वाबों में आने का सिलसिला अब ख़त्म हुआ है,
मेरे चहरे में मुस्कान फ़िर से आने लगी है, ज़िन्दगी वापस गुन-गुनाने लगी है,
रात अब खौफ़ नहीं ख़्वाब देने लगी है,
और सुबह की किरण फ़िर से उगने की मुझे उम्मीद देने लगी है,
माँ का लाड़ला बेटा फ़िर से बनने लगा हूँ, वक़्त के साथ-साथ अब खुद पे ध्यान देने लगा हूँ,
तेरे लौट के आने के ख़याल अब मुझे सताते नहीं है,
तेरी याद में आँसू अब आते नहीं है,
तेरा नंबर अब मेरे फ़ोन में नहीं है, और वो तेरी ढ़ेर सारी तस्वीरें अब गैलेरी में नहीं है,
तेरे दिए हुए तोफों को जला दिया हूँ, उनकी रख को पहाड़ों में उड़ा दिया हूँ,
देख ज़िन्दगी के ख़ातिर आज फ़िर से अपने पैरों में चलने लगा हूँ,
बैसाखी का सहारा छोड़ अब फ़िर से दौड़ने लगा हूँ,
कुछ यूँ सा मेरे साथ एजाज़ हुआ है,
बीते दिनों से कुछ ख़ास हुआ है।
“लोहित टम्टा”

1 Like · 49 Views
You may also like:
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
प्यार
Satish Arya 6800
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
प्यार भरे गीत
Dr.sima
मेरे पापा
Anamika Singh
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
✍️✍️याद✍️✍️
"अशांत" शेखर
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
फ़ासला
मनोज कर्ण
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...