Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

बीती यादों के बसेरे

तन्हा रातों में बिसरी यादों को
आवाज दे बुला रहा हूँ मैं।
जुबां तो हो चुकी खामोश
सदा दिल की सुना रहा हूँ मैं।
दवा तो हो चुकी बेअसर कभी की
दुआओं के मरहम लगा रहा हूँ मैं।
तूफानी रात में देखो दीए की
लौ जला बुझा रहा हूँ मैं।
गलतियां की कदम दर कदम मैंने
खामियाजा आज उठा रहा हूँ मैं।
अब तो आलम ये हैरानगी का
कि बंद आँखों में ही कदम बढ़ा रहा हूँ मैं।
सुन कर इक आह मेरी
देखा जो किसी ने मुड़कर
अपनी इसी बानगी पे तो
बहुत मुस्कुरा रहा हूँ मैं।

—रंजना माथुर दिनांक 10/08/2017 (मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

336 Views
You may also like:
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पापा
सेजल गोस्वामी
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
इश्क
Anamika Singh
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...