Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Dec 23, 2021 · 1 min read

” बिल्ली “

अन्य जानवर जैसी ही जानवर हूं मैं
क्यों मुझे तुम सब अपशकुन मानते
जब मैं सीधी घर जाऊं अपने रास्ते पर
तो क्यों मुझे देख तुम सहसा रुक जाते,
कुत्ते, बंदर, गाय इत्यादि अनेकों जानवर
रोज तुम्हें सुबह शाम गली में टकरा जाते
तब कतई माथा नहीं भिनभिनाता तुम्हारा
बिल्ली नाम से क्यों संकीर्ण सोच दिखाते,
घूमने फिरने का मेरा भी तो मन है करता
काटा बिल्ली ने रास्ता सोच क्यों घबराते
वैज्ञानिक युग में लिया है जब तुमने जन्म
तो अन्धविश्वास से स्वयं को क्यों बंधा पाते,
मीनू से कहे बिल्ली अजीब परंपरा क्यों बनाई
गर्भवती होऊं जब मैं तब देख खुश हो जाते
मेरा अवशिष्ट तब कैसे तुम्हे अमीर बनाएगा
लेकिन फिर भी उसे पाकर भाग्यशाली मानते,
अरे कुछ नहीं रखा ऐसे शून्य अन्धविश्वास में
अन्य जानवरों की तरह काश मुझे भी पालते
अपशकुन नहीं समझी जाती मैं राह चलते
देखकर मुझे अपना नया रास्ता नहीं डालते।
Dr.Meenu Poonia jaipur

1 Like · 319 Views
You may also like:
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई ठांव मुझको चाहिए
Saraswati Bajpai
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
बस चार कंधे
साहित्य गौरव
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
साथ किसने निभाया है
Dr fauzia Naseem shad
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
✍️रुसवाई✍️
'अशांत' शेखर
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
आरजू
Anamika Singh
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
कोई रास्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
✍️चाँद में रोटी✍️
'अशांत' शेखर
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
हाँ, वह "पिता" है ...........
Mahesh Ojha
दौर ए हाजिर पर
shabina. Naaz
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
✍️हाथ के सारे तिरंगे ऊँचे लहराये..!✍️
'अशांत' शेखर
Loading...