Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

बिन तेरे ज़िंदगी अधूरी है

गलती बुरी नहीं
गलतफहमी बुरी है
तू अधूरी नहीं
तेरी आस अधूरी है

तुम कब तलक
तड़पाओगे हमें यूं ही
बिन तेरे ये मेरी
ज़िंदगी ही अधूरी है

देखता हूं हालत
क्यों ये इतनी बुरी है
लगता है कारण
मुझसे ये तेरी दूरी है

लगता नहीं कुछ
भी अच्छा मुझे अब
क्यों बिन तेरे ये
चांदनी भी अधूरी है

है जीना मुश्किल
सही नहीं जाती ये दूरी है
ज़िंदगी तेरे संग ही
बिताने की तैयारी पूरी है

चाहता है तू भी
जानता हूं मैं ये भी
बता दे मुझे तू
फिर क्या तेरी मजबूरी है

इंतज़ार किया बहुत
इस दिल की भी मजबूरी है
कह रहा हूं तुमसे
अब सही न जाए ये दूरी है

मान जाओ अब
और न सताओ मुझे अब
आकर बाहों में मेरी
हमेशा के लिए मिटानी ये दूरी है।

Language: Hindi
11 Likes · 3 Comments · 856 Views

Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'

You may also like:
किस से पूछूं?
किस से पूछूं?
Surinder blackpen
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
Dr Manju Saini
कोई नई ना बात है।
कोई नई ना बात है।
Dushyant Kumar
एक ठोकर क्या लगी..
एक ठोकर क्या लगी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हम तुम्हें खुद में
हम तुम्हें खुद में
Dr fauzia Naseem shad
★नज़र से नज़र मिला ★
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
हास्य कथा :  ताले की खरीद-प्रक्रिया
हास्य कथा : ताले की खरीद-प्रक्रिया
Ravi Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग -10
अल्फाज़ ए ताज भाग -10
Taj Mohammad
बुंदेली दोहा- बिषय -अबेर (देर)
बुंदेली दोहा- बिषय -अबेर (देर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
राम केवल एक चुनावी मुद्दा नही हमारे आराध्य है
राम केवल एक चुनावी मुद्दा नही हमारे आराध्य है
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
कोयल कूके
कोयल कूके
Vindhya Prakash Mishra
कट रही हैं दिन तेरे बिन
कट रही हैं दिन तेरे बिन
Shakil Alam
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कट कर जो क्षितिज की हो चुकी, उसे मांझे से बाँध क्या उड़ा सकेंगे?
कट कर जो क्षितिज की हो चुकी, उसे मांझे से...
Manisha Manjari
पहला प्यार - अधूरा खाब
पहला प्यार - अधूरा खाब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ सीधी बात
■ सीधी बात
*Author प्रणय प्रभात*
महाराणा प्रताप
महाराणा प्रताप
Satish Srijan
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Shivkumar Bilagrami
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
💐प्रेम कौतुक-226💐
💐प्रेम कौतुक-226💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तोड़ दे अब जंजीरें
तोड़ दे अब जंजीरें
Shekhar Chandra Mitra
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Khamoshi bhi apni juban rakhti h
Khamoshi bhi apni juban rakhti h
Sakshi Tripathi
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
समय पर संकल्प करना...
समय पर संकल्प करना...
Manoj Kushwaha PS
Loading...