Sep 17, 2016 · 1 min read

बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरी सी है/मंदीप

बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरि सी है/मंदीप

बिन तुम्हारे जिन्दगी अधुरी सी है,
बिन तुम्हारे कुछ कमी सी है।

ख़ुशी होती देख तुम्हे जिन आँखो को,
आज उन्ही आँखो में नमी सी है।

अटकी सी गई जिंदगी बिन तुम्हारे,
अब मेरी ही सासे मुझ से रूठी सी है।

तुम से बढ़ कर की मैने चाहत तुम्ही से,
फिर भी मेरी कहानी क्यों अधूरी सी है,

हो सके तो स्माल लेना हम को,
अब बिन तुम्हारे ये जिंदगी बिखरी सी है।

हुआ एहसास “मंदीप” को क्यों आज तुम्हारा,
लगता है आज पूर्वी हवा कुछ बदली सी है।

मंदीपसाई

193 Views
You may also like:
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H.
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
सूरज काका
Dr Archana Gupta
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
मां
हरीश सुवासिया
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
आज फिर
Rashmi Sanjay
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H.
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Buddha Prakash
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
# मां ...
Chinta netam मन
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...