Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरी सी है/मंदीप

बिन तुम्हारे जिंदगी अधूरि सी है/मंदीप

बिन तुम्हारे जिन्दगी अधुरी सी है,
बिन तुम्हारे कुछ कमी सी है।

ख़ुशी होती देख तुम्हे जिन आँखो को,
आज उन्ही आँखो में नमी सी है।

अटकी सी गई जिंदगी बिन तुम्हारे,
अब मेरी ही सासे मुझ से रूठी सी है।

तुम से बढ़ कर की मैने चाहत तुम्ही से,
फिर भी मेरी कहानी क्यों अधूरी सी है,

हो सके तो स्माल लेना हम को,
अब बिन तुम्हारे ये जिंदगी बिखरी सी है।

हुआ एहसास “मंदीप” को क्यों आज तुम्हारा,
लगता है आज पूर्वी हवा कुछ बदली सी है।

मंदीपसाई

387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*Author प्रणय प्रभात*
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
तेरा जां निसार।
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
सुविचारों का स्वागत है
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
"नए सवेरे की खुशी" (The Joy of a New Morning)
Sidhartha Mishra
*विभाजन-विभीषिका : दस दोहे*
*विभाजन-विभीषिका : दस दोहे*
Ravi Prakash
सोचता रहता है वह
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
कोरोना दोहा एकादशी
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Colourful Balloons
Colourful Balloons
Buddha Prakash
अमृत महोत्सव
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
मौत का क्या भरोसा
मौत का क्या भरोसा
Ram Krishan Rastogi
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
शेर
शेर
Rajiv Vishal (Rohtasi)
माई री [भाग२]
माई री [भाग२]
Anamika Singh
ग़ज़ल --बनी शख़्सियत को कोई नाम-सा दो।
ग़ज़ल --बनी शख़्सियत को कोई नाम-सा दो।
rekha mohan
बेरोजगार आशिक
बेरोजगार आशिक
Shekhar Chandra Mitra
कच्चे धागे का मूल्य
कच्चे धागे का मूल्य
Seema 'Tu hai na'
बादल का रौद्र रूप
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
सार्थक हो जिसका
सार्थक हो जिसका
Dr fauzia Naseem shad
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...