Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2022 · 1 min read

बिंदु छंद “राम कृपा”

सत्यसनातन, ये है ज्ञाना।
भक्ति बिना नहिं, हो कल्याना।।
राम-कृपा जब, होती प्राणी।
हो तब जागृत, अन्तर्वाणी।।

चक्षु खुले मन, हो आचारी।
दूर हटे तब, माया सारी।।
प्रीत बढ़े जब, सद्धर्मों में।
जी रहता नित, सत्कर्मों में।

राम समान न, कोई देवा।
इष्ट धरो अरु, चाखो मेवा।।
नित्य जपे नर, जो भी माला।
दुःख हरे सब, वे तत्काला।

पाप भरी यह, मेरी काया।
मैं नतमस्तक, हो के आया।।
राम दयामय, मोहे तारो।
कष्ट सभी प्रभु, मेरे हारो।।
================

बिंदु छंद विधान –

“भाभमगा” यति, छै ओ’ चारी।
‘बिंदु’ रचें सब, छंदा प्यारी।।

“भाभमगा” = भगण भगण मगण गुरु

(211 211, 222 2) = 10 वर्ण प्रति पद का वर्णिक छंद। 4 पद, (यति 6 और 4 वर्ण पर।) दो-दो पद समतुकांत।
*******************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
View all
You may also like:
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
🌷💥प्रेम की राह पर-68💥🌷
🌷💥प्रेम की राह पर-68💥🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज मस्ती से जीने दो
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Nishant prakhar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
अपनी पीर बताते क्यों
अपनी पीर बताते क्यों
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
ख्वाहिशें आँगन की मिट्टी में, दम तोड़ती हुई सी सो गयी, दरार पड़ी दीवारों की ईंटें भी चोरी हो गयीं।
Manisha Manjari
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
महिला दिवस पर एक व्यंग
महिला दिवस पर एक व्यंग
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुबारक हो।
मुबारक हो।
Taj Mohammad
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
#मेरे प्यारे बाबा दादी#
#मेरे प्यारे बाबा दादी#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
2529.पूर्णिका
2529.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़िंदगी ख़्वाब तो नहीं होती
ज़िंदगी ख़्वाब तो नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
🙏माता शैलपुत्री🙏
🙏माता शैलपुत्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
■ जय मुंगेरी लाल की...
■ जय मुंगेरी लाल की...
*Author प्रणय प्रभात*
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
Loading...