Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 3, 2016 · 1 min read

बाग़ को फिर आज महका दीजिये

बाग़ को फिर आज महका दीजिये
बिन पिलाये मीत बहका दीजिये ।।1

आग सावन ने लगाईं खूब जो
और इसको आज दहका दीजिये।।2

साज दिल के बज उठे हमदम सभी
चाल अपनी आज लहका दीजिये।।3

आशिकाना हो रहा मौसम गजब
हमनवां आँचल ही ढलका दीजिये।।4

एक तराना प्यार का गाकर जरा
हमसफ़र दिल को ही चहका दीजिये।।5

“दिनेश”

173 Views
You may also like:
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
कुछ ना रहा
Nitu Sah
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिता
Dr.Priya Soni Khare
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
Loading...