Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2022 · 4 min read

बाल मनोविज्ञान

शीर्षक :–
बाल विमर्श के तहत बाल मनोविज्ञान की बढ़ती आवश्यकता

वर्तमान समय प्रतियोगिता का है साथ ही नेटवर्क और सोशल मीडिया के माध्यम यथा ओन लाइन शिक्षा के चलते बच्चों पर ,उनके शारीरिक ,मानसिक स्वास्थ पर क्या असर पढ़ रहा है , यह जानना आज बेहद जरुरी हो गया है।
बच्चों का मस्तिष्क जितनी सक्रियता से सीखने की कोशिश कर रहा होता है और शरीर विकसित अवस्था में ..तब बहुत जरुरी है कि उनके मनोविज्ञान और विकास क्रम को समझा जाये।
बाल मनोविज्ञान बालक/बालिका के मानसिक ,शारीरिक व भावनात्मक विकास और क्षमता पर स्पष्ट प्रकाश डालता है।और आज बाल मनोविज्ञान की आवश्यकता पहले से अधिक है।
लगभग चालीस दशक पूर्व बचपन सहज था। परिवार के मध्य वह बहुत कुछ सहजता से अपनी क्षमतानुसार सीखते रहते थे। आज ढाई साल के बच्चे को -जो न ठीक से बोल सकता है ,न अपनी तकलीफ बयाँ कर सकता है-क्रश स्कूल ,प्ले स्कूल में भेजने का चलन महत्वपूर्ण हो गया है। वहाँ बालको के कोमल मन पर पढ़ते तनाव को अनदेखा किया जाता है।
लगभग दो साल पूर्व मंदिर जी में दोपहर के समय प्रवचन सुन रही थी ,तभी एक बालक महाराज जी को प्रणाम करने आया। उम्र लगभग तीन साल । चरण स्पर्श के साथ उसने धोक दी और महाराज ने वात्सल्य से सर पर हाथ रख दिया। उसकी पीठ पर टँगे स्कूल बैग को देख पूछा—
“,कहाँ जा रहे हो ?”
..”.कोचिंग ।”
कोचिंग .!!
..किस कक्षा में पढ़ते हो?”
“एल के जी”
“तो कोचिंग क्यों जा रहे इस समय ?”
बच्चे का मौन और आँखों में नमी देख आगे कुछ न पूछा।
ये स्थिति किस और इशारा करती है? क्या हम इतने संवेदन शील हो गये हैं कि आगे बढ़ने की होड़ में बच्चों से उनका सहज बचपन छीनते हमारा मन नहीं कचोटता?
नदी का सहज प्रवाह जहाँ मन को मोहता है वहीं प्रवाह बाधित होने पर वह नैसर्गिक सुंदरता नहीं दिखती। एक पहाड़ी झरना जिस तरह कलकल ध्वनि के साथ ऊँचाई से गिरता और अपनी राह बनाता आगे बढ़ता है ,वहीं कृत्रिम सरोवर उस सुंदरता का बोध नहीं कराते।
पुनः बात करती हूँ वर्तमान में बालमनोविज्ञान के अध्ययन की आवश्यकता की। बाल मनोविज्ञान में बच्चों के बाहरी व्यवहार का निरीक्षण बहुत सूक्ष्मता व विशेष नियमों के तहत किया जाता है। जिसके अंतर्गत आयु अनुसार प्रश्नावली,सुव्यवस्थित वैज्ञानिक अध्ययन, कुछ विशेष प्रयोगके साथ लेखन और मनोविश्लेषण के द्वारा बच्चों की समस्या को समझा जाता है ।बच्चों से प्राप्त जानकारी से उनके पारिवारिक वातावरण ,माता-पिता के संबंध,शिक्षकों का व्यवहार आदि के माध्यम से उनकी मानसिकता, व्यवहार और विकास से संबंधित महत्वपूर्ण आँकडे जुटाये जाते हैं । विशेषज्ञ बच्चों के व्यवहारों को नियमित डायरी में लिखते हैं जो सदैव उपयोगी सिद्ध होती हैं।
कुछ महापुरुषों की जीवनी में उनके बचपन के अनुभव ,कुछ विशेष घटनाक्रम मिलते हैं ,कुछ उनके बचपन के मित्रों या उन्हें स्नेह करने वालों के बारे में जानकारी होती है ।इससे पता चलता है कि बचपन की कौन सी घटना उसके व्यक्तित्व को निर्धारित करने का कारक बनती है।
बच्चों के व्यवहार को समझने के.लिये मनोवैज्ञानिक कुछ विशेष प्रश्नावलियाँ बनाकर भी परिवार ,पड़ौस ,पैरेंट्स या शिक्षकों से भी उपयोगी जानकारी इकट्ठा करते हैं।
वर्तमान में बदलते समय में अनेक महत्वपूर्ण प्रयोग किये जा रहे हैं जो बच्चों की सीखने की प्रक्रिया ,उनकी स्मरणशक्ति और बुद्धि के विकास व व्यवहार संबंधी अनेक महत्वपूर्ण प्रयोग हो रहे हैं।बाल सुधार गृह ,व बच्चों के डाक्टर (चाइल्ड स्पेशलिस्ट)भी इस संबंध में सकारात्मक भूमिका निभाते हैं अर्थात् बालसुधार गृह में आने वाले बच्चों के व्यवहार का रिकार्ड और डाक्टर्स के पास आने वाली समस्याओ-समाधानों का रिकार्ड ।
बालमनोविज्ञान की शाखा के निर्माण में परिवार शिक्षक ,डाक्टर ,समाजशास्त्रियों की अहम भूमिका होती है।
मनोवैज्ञानिक बच्चों के स्वाभाविकव्यवहार को समझने हेतु जिन उपकरणों यथा टेपरिकार्डर, कैमरा आदि का प्रयोग करते हैं जिनसे उनकी सहज अभिव्यक्ति को परखा जा सके।
मनोवैज्ञानिक अध्ययनों में बाल्या वस्था या शैशवावस्था से लेकर किशोरावस्था तक के व्यवहार का मूल्यांकन विभिन्न परिस्थितियों व बालकों के समूह में उनके व्यवहार पर आधारित होता है।जो अधिक विश्वसनीय होता है। वर्तमान समय में बाल अपराध की समस्या से विकसित व विकासशील दोनों प्रकार के देश जूझ रहे हैं ।इन
विशेष समस्याग्रस्त बालकों के इलाज में बालमनोविज्ञान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।
आवश्यकता है कि हम इसे इलाज की प्रक्रिया समझें न कि बच्चे की स्थिति को विक्षिप्तता या पागलपन समझे। दोनों स्थितियों में पर्याप्त अंतर है। जहाँ एक तरफ मानसिक विकार ,घटनायें कारक हैं वहीं विक्षिप्तता में मानसिक असंतुलन ।
बच्चों के मनोविज्ञान को समझना बदलते दौर की महती आवश्यकता है वह भी तब जब एकल परिवार के नाम पर माता-पिता और एक बच्चा रह गया हो और बच्चे को भी शिक्षा के चलते हॉस्टल आदि में रखा जा रहा हो ।संचार क्रांति,सूचना तकनीक और वैश्वीकरण की अवधारणा ने जिस तीव्रता से लोगों की सोच को बदला है ,जीवन पद्धति को बदला है साथ ही नवीन सूचनाओं ,जानकारियों की सुलभता ने सहजता,सरलता व पुरानी पारंपरिक सोच पर सेंध लगाई हैं उसकी चपेट में बच्चे -बड़े सभी आगये। निजी स्थाई अनुभव नगण्य हो गया। आज साल भर के बच्चे जिस तीव्रता से मोबाइल फोन ,इंटरनेट का इस्तेमाल व इंडोर गेम्स सीख जिस कुशलता से इसका प्रयोग ,उपयोग कर रहे हैं ,बड़ी उम्र के लोग उस तेजी से नहीं सीख पा रहे ।इस कारण भी बच्चों के भीतर घट रहे समस्यामूलक कारणों को भी नहीं समझ पा रहे ।और बच्चे व माता पिता या परिवार में दूरियाँ बढ़ रहीं हैं जिसे जैनरेशनगेप का नाम दिया जा रहा है। और साथ ही बाल अपराधों में वृद्धि भी। इसी कारण आज बाल मनोविज्ञान की बढ़ती आवश्यकता से इंकार नहीं किया जा सकता ।

मनोरमा जैन पाखी
मेहगाँव ,भिंड मध्यप्रदेश
गृहिणी, लघुकथा ,कहानियाँ समीक्षा आदि शौकिया लेखन ।हिंदी साहित्य हेतु प्रतिबद्ध ।

उपरोक्त आलेख स्वलिखित मौलिक है

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 53 Views
You may also like:
*अंतिम सफर पर हाथ रीता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सुबह की किरणों ने, क्षितिज़ को रौशन किया कुछ ऐसे,...
Manisha Manjari
#सत्य_कथा
*Author प्रणय प्रभात*
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
'अशांत' शेखर
अधूरी चाहत
Faza Saaz
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
Suraj kushwaha
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
कहना मत राज की बातें
gurudeenverma198
हर युग में जय जय कार
जगदीश लववंशी
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
सबसे बड़ा पप्पू
Shekhar Chandra Mitra
देश के लिए है अब जीना मरना
Dr Archana Gupta
मेरी आजादी बाकी है
Deepak Kohli
ज़मानें हुए जिसको देखे हुए।
Taj Mohammad
मुहब्बत और इबादत
shabina. Naaz
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
भाग्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
“BETRAYAL, CHEATING AND PERSONAL ATTACK ARE NOT THE MISTAKES TO...
DrLakshman Jha Parimal
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
मै लाल किले से तिरंगा बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
महब्बत का यारो, यही है फ़साना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
प्यार का अधुरा सफर
Anamika Singh
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
वक़्त तबदीलियां भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...