Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 17, 2021 · 1 min read

बाल बारिश

बारिश आई झम झम झम,
नाची गुडिया छम छम छम!

बादल गरजे गड़ गड़ गड़,
छोटू छिप गया हाथ पकड़!

बिजली चमकी चम चम चम,
बाहर निकलना थोड़ा कम!

ठंडी हवाये सन सन सन,
बगीचे की मिट्टी हो गई नम!

बारिश आई झम झम झम,
नाची गुडिया छम छम छम!

-सुरभी

4 Likes · 5 Comments · 255 Views
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Raju Gajbhiye
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
रसीला आम
Buddha Prakash
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H. Amin
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
दर्द।
Taj Mohammad
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Feel it and see that
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...