Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 14, 2016 · 1 min read

बाल दिवस पर

चलो बचपन की यादों को
खुदी से बांट लूं मैं आज
पलको में सजे ख्वाबो में बाबा
मैं भी हूं क्या आज
तुम्हें क्या याद है अब भी
मेरी पहली बनी रोटी
कड़क थी या मुलायम
प्यार की वो पहली चिकोटी
तरकारी में सब्जी कम
पानी में मसाला था
बड़े ही प्यार से पीकर
मुझे कितना बहलाया था
याद में अब भी मेरे है
मुहल्ले भर की वो यादें
छतो पर दौड़ते फिरते
कितनी चोटे हम खाते
कभी गुस्सा कभी तुम प्यार से
हमको मनाते थे
न जाने गुज़रे दिन क्यूं
आज मुझको याद आतें हैं

1 Like · 151 Views
You may also like:
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
कविराज
Buddha Prakash
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आया आषाढ़
श्री रमण
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...