Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2016 · 1 min read

ऊँट

बच्चों के है दिल को भाता
ऊँची गर्दन वाला ऊँट
ढेर ढ़ेर ये पानी पीता
बड़े बड़े ये लेता घूँट

नहीं रेत पर कभी फिसलता
राजस्थानी इसकी आन
चाल बड़ी मस्तानी चलता
बड़ी हवेली की ये शान

लगता मालिक को ये प्यारा
रेगिस्तानी कहें जहाज
कारोबार सँभाले सारा
झटपट कर दे सारे काज

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1102 Views

Books from Dr Archana Gupta

You may also like:
"वर्तमान"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
पसन्द
पसन्द
Seema 'Tu hai na'
"भक्त नरहरि सोनार"
Pravesh Shinde
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
Suraj kushwaha
निगाहें
निगाहें
जय लगन कुमार हैप्पी
काश हम बच्चे हो जाते
काश हम बच्चे हो जाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऋतु बसन्त आने पर
ऋतु बसन्त आने पर
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-397💐
💐प्रेम कौतुक-397💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खफा है जिन्दगी
खफा है जिन्दगी
Anamika Singh
ब्याह  रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
ब्याह रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
Dr Archana Gupta
*सूने घर में बूढ़े-बुढ़िया, खिसियाकर रह जाते हैं (हिंदी गजल/
*सूने घर में बूढ़े-बुढ़िया, खिसियाकर रह जाते हैं (हिंदी गजल/
Ravi Prakash
✍️एक फ़िरदौस✍️
✍️एक फ़िरदौस✍️
'अशांत' शेखर
घर फूंकने का साहस
घर फूंकने का साहस
Shekhar Chandra Mitra
वो पुरानी सी दीवारें
वो पुरानी सी दीवारें
शांतिलाल सोनी
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
ख़ामोश सी नज़र में
ख़ामोश सी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण अर्जुन संवाद
कृष्ण अर्जुन संवाद
Ravi Yadav
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
टफी कुतिया पे मन आया
टफी कुतिया पे मन आया
Surinder blackpen
■ एक कटाक्ष
■ एक कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
✍️ईश्वर का साथ ✍️
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चल सजना प्रेम की नगरी
चल सजना प्रेम की नगरी
Sunita jauhari
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
Loading...