Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 2, 2017 · 2 min read

बाल गणेश लीला (हास्य)

बाल गणेश लीला(हास्य)

बालक गणेश बोले माता तुम कहती हो
पिताजी का देवों में श्रेष्ठ स्थान है
सबको सपरिवार खाने पै बुलाते लोग
हंसी खुशी उत्सव का बनता विधान है
साथी बतलाते हैं तो शर्म लगती है मुझे
यही सोच सोच तेरा पुत्र परेशान है
परिवार सहित पिता को ना बुलाते कोई
कैसे मानूं देवों में हमारा बड़ा मान है।

पता नहीं कैसे-कैसे साथियों में खेलता है
यहां-वहां की बातों में सर ना खपाया कर
हम को सपरिवार क्यों नहीं बुलाते लोग
पिताजी का मान पान बीच में न लाया कर
पहले स्वयं की खुराक का हिसाब लगा
भोजन से रोज-रोज मां को ना सताया कर।
दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है पेट तेरा
बार-बार कहती हूं बेटा कम खाया कर।

कितनी भोली हो माते मेरा मूल प्रश्न छोड़
चाहती हो ध्यान को बटाना अफसोस है।
परिवार सहित पिता को ना बुलाए कोई
इसमें बताओ मेरे पेट का क्या दोष है।
मित्र मंडली को ले पिताजी कब कहां गए?
पूछते हैं साथी मुझे आता बड़ा जोश है।
नहीं बतलाती माता मुझसे छिपातीं बोलो
हमें न बुलाने का कारण कोई ठोस है।

सुरों की समाज में हमारा मान पान बढ़ा
दूर से प्रणाम के सुमन झरते हैं सब।
पिता जी के पांच मुख छै मुख का बड़ा भाई
तेरा मुख हाथी का ये जान डरते हैं सब।
पूरे जग का खाना अकेले हम खा ना जाएं
परिवार देख हा हा सांसे भरते हैं सब।
गंगा खाए चंदा खाए सांप खाए नंदी खाए
आमंत्रित हमें इसी से ना करते हैं सब।।

गुरु सक्सेना नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

311 Views
You may also like:
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Saraswati Bajpai
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
बेरूखी
Anamika Singh
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
अधुरा सपना
Anamika Singh
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...