Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 8, 2017 · 1 min read

बाल कविता

पढ़ना चाहें गे एक बाल कविता।

थोड़े समय के लिए बन जाये बच्चे।

पंछियों को देख उड़ता
मै भी अब उड़ना चाहूं
पूछ रही हूं मैं मां से
पंख मैं कैसे उगाऊं

उड़ रही उड़न तश्तरी
पर नहीं हैं पंख दिखते
सुन सुन बाते वह मेरी
अम्मा के हैं दांत हंसते
कोई तो बोलो बताओ
मां को कैसे समझाऊं
पंख मैं कैसे उगाऊं

गोद में लेती वह झट से
खूब मुझको प्यार करती
लड्डू बरफी प्लेट में धर
खाने की मनुहार करती
कोई तो बोलो बताओ
मां को कैसे समझाऊं
पंख मैं कैसे उगाऊं

पहले तू हो जा बड़ी
अपने पैरों पर खड़ी
एक सुंदर शहर में जा
मैं तुझे पाइलट बनाऊं
कोई तो बोलो बताओ
मां को कैसे समझाऊं
पंख मैं कैसे उगाऊं
पंछी सा उड़ना चाहूं।
पंख मैं कैसे उगाऊं।

293 Views
You may also like:
पिता
Dr.Priya Soni Khare
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Dr. Kishan Karigar
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*"पिता"*
Shashi kala vyas
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...