Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 21, 2022 · 1 min read

बालू का पसीना “

बालू का पसीना ”
जनवरी की सर्द सुबह
सामोद का वातावरण
बिखरी कमकंपित ओस
अक्सर याद आते है,
राज संग मेरा भ्रमण
कच्ची पगडंडियों पर
बच्चों की किलकार
अक्सर याद आते है,
धांसू थार को मचकाना
आजाद जी का चलाना
खेत का जलेबी सा रास्ता
अक्सर याद आते है,
बिशनगढ़ का सिला टीबा
पहाड़ की मौसमी तलहटी
झुंडे का खिला परिवार
अक्सर याद आते है,
एक टिब्बे की पीठ पर
मीनू को सहसा दिखना
बालू माटी का पसीना
अक्सर याद आते है,
पेड़ों का लदा झुरमुट
शर्मीली वो मूंगफली
बकरी के चंचल मेमने
अक्सर याद आते है।

232 Views
You may also like:
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
वाक्यांश
Godambari Negi
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
मेरे सनम
DESH RAJ
तुम्हारी जुदाई ने।
Taj Mohammad
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️ख़्वाबो की अमानत✍️
'अशांत' शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
✍️ये जरुरी नहीं✍️
'अशांत' शेखर
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
नूर ए हुस्न उसका।
Taj Mohammad
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
गीता की महत्ता
Pooja Singh
Love never be painful
Buddha Prakash
अधूरापन
Harshvardhan "आवारा"
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
Loading...