Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

बारी है

राम जी आ गए
शंकर जी आ रहे
कृष्ण जी की बारी है।

अयोध्या जीती
काशी लड़ रहे
निश्चित जीत हमारी है।।

मंदिर दब गए
मस्जिद बन गयी
ये कैसे इबादत गाह हैं।

मंदिर की नींव पर
मस्जिद के नाम पर
ये कैसी अजब चाह है।।

अल्लाह हो या ईश्वर
मत लड़ो उनके नाम पर
जिसका है उसका रहने दो।

सिर्फ दिल की सुनो
विचार विमर्श करो
दुनिया कहती है तो कहने दो।।

1 Like · 51 Views
You may also like:
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
ईद
Khushboo Khatoon
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
ભીની ભીની લાગણી.....
Dr. Alpa H. Amin
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
Loading...