Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2021 · 1 min read

बारिश

।।बारिश।।

वो रिम-झिम, बरसती बारिश,
जैसे कुछ तान सुनाती हो बारिश,
वो बचपन की मस्ती, वो कागज की कश्ती,
फिर से याद दिलाती है, बारिश।
वो बेफिक्र होकर, बारिश में भीगना,
फिर घर आकर कुछ, बहाना बनाना,
फिर उन्ही यादों में, ले जाती है बारिश।
मेरे घर आँगन में वो, बारिश का बरसना,
जमकर हमारा मस्ती करना, वो
मिट्टी की सोंधी-सोंधी खुशबु,
फिर उसी बचपन मे, ले जाती है बारिश,
बारिश वही है , पर मेरा मकान बदल गया,
उसमे रहते-रहते, मेरा मिजाज बदल गया।
न रही उसमे बारिश के लिये जगह,
मेरे खिड़कियों के सिसो से टकराकर,
वो मुझे बुलाती हुई वापस चली जाती है।
आज भी बारिश की बूंदे मुझे बुलाती है,
फिर उसी बचपन की याद दिलाती है।

– रुचि शर्मा

19 Likes · 24 Comments · 378 Views
You may also like:
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
जय जय इंडियन आर्मी
gurudeenverma198
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
शत शत नमन उन सपूतों को
gurudeenverma198
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मालूम था।
Taj Mohammad
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
कोशिश
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
💐💐 सूत्रधार 💐💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
*तिरंगा लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
Loading...