Aug 29, 2016 · 1 min read

बारिश की वे साँझें (स्मृति चित्र )

काली घटाएँ , साँझ , तेज हवायेँ और बारिश की फुहारें ।
छातों में सिमटते दामन बचाते लोग
उड़ते आँचल ,भीगते बदन तेज कदम लड़कियां ।
सड़क में गड्ढे ,गड्ढों में पानी छपा छप ।
बगल से गुजरती बाइक उछालती छपाक, मटमैला पानी ।
मढ़ैया के ऊपर छाये आम के पेड़ पर पक्षियों का कलरव ।
किसी घर के दरवाजे पर बच्चों को तकती माँ ।
किसी अटारी के झरोखे से झाँकती प्रतीक्षारत नायिका ।
नुक्कड़ के ढाबे पर खौलती चाय ,गर्म चाय की चुसकियों पर
बहसें और किस्से ।
उन किस्सों में कुछ किस्से हमेशा अधूरे रह जाते थे ।
और इंतजार होता फिर किसी वैसी शाम का ।
रात को तो घर लौटना ही होता था ,
सूखे या भीगते हुए ।

144 Views
You may also like:
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा!
Anamika Singh
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
आ जाओ राम।
Anamika Singh
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
तलाश
Dr. Rajeev Jain
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
गधा
Buddha Prakash
Loading...