Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2022 · 1 min read

बारिश की बूंद….

बारिश की बूंदों ने छूकर कुछ कहा है मुझसे,
फिर से गुनगुनाने दे अपनी जिंदगी को मेरी ही तरह। नहीं पता मुझे अपने अतीत का और ना ही भविष्य का, बस अभी आसमा से आ रही हूं, ज़मीं से मिलने के लिए।

1 Like · 82 Views
You may also like:
आओ तुम
sangeeta beniwal
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
हम सब एक है।
Anamika Singh
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
उचित मान सम्मान के हक़दार हैं बुज़ुर्ग
Dr fauzia Naseem shad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
इश्क
Anamika Singh
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पिता
Satpallm1978 Chauhan
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...