Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2021 · 1 min read

बारिश की बुंदों में तलाशती आंखे

जब भी बारिश होती है
मेरा मन भीग जाता है
जानते हो क्यों?
क्योंकि
तुम्हारे साथ बिताए वह पल
फिर से सजीव हो उठता है
बारिश की रिमझिम
फुहारों के संग
नजाने कितने वसंत
हमने साथ गुजारे थे
मुझे याद है……….
हर बारिश के बाद तुम
बालकनी में आकर बैठ जाते थे
और मैं तुम्हारे लिए
अदरक वाली चाय लेकर
आती थी
चाय की चुश्कियां लेते हुए
तुम कुछ रोमांटिक होकर
मुझसे
घंटों बतियाते रह्ते थे
और मैं तुम्हें
बस निहारती रहती थी
वक्त भी कितनी जल्दी
सरक जाता है न!
हमारे पौध भी अब
बड़े हो चुके हैं
सब अपनी दुनियां में मशरूफ है
लेकिन मैं
तुमसे बहुत नाराज हूँ
तुमने क्यों
अपना वादा नहीं निभाया
तुमने कहा था-
तुम्हारा साथ
मैं कभी नहीं छोडूंगा
फिर क्यों तुम
मुझसे मुंह मोड़ कर
चले गए
कभी न लौट न आने के लिए!
पर मैं आज भी
नजाने क्यों
इन बारिशो की बुंदों में
तुम्हें तलाशती रहती हूँ।

रीता सिंह “सर्जना ”
तेजपुर,असम।

©️®️
स्वरचित मौलिक@

3 Likes · 4 Comments · 136 Views
You may also like:
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
प्यार
Swami Ganganiya
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
अब जो बिछड़े तो
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत का फल
Buddha Prakash
कई चेहरे होते है।
Taj Mohammad
एक मुद्दत से।
Taj Mohammad
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
'ख़त'
Godambari Negi
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
अल्फाज़ ए ताज भाग-9
Taj Mohammad
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
.✍️साथीला तूच हवे✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Security Guard
Buddha Prakash
✍️दरिया और समंदर✍️
'अशांत' शेखर
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
**साधुतायां निष्ठा**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परदेश
DESH RAJ
Loading...