Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2021 · 1 min read

बाबली है खुद

जिंदगी गाना मर्जी से गवाती है हमे
कभी सुर कभी बेसुरा जताती है हमे
लय ताल खुद भूल जाती है अक्सर
दोषी इस सबका, बताती है हमें
अनजान रास्तो पर खुद निकल आती है
भटक जाती है तो बरगलाती है हमे
कितनी ही बार मुकर जाती है खुद, अपनी बात से
बादे तोड़ती है खुद, कसम खिलाती है हमे
बचपन भाया, तो जवां कर दिया, कुछ कर पाते तो बूढ़ा
बाबली है खुद और पागल बनाती है हमे
जानने को कितना कुछ है, जानती है जिंदगी
वक़्त को कम और कम कर सताती है हमे
फिर भी खुश हूँ और रहने में बुराई क्या है
हर पल में कितने एहसास करा देती है हमे

1 Like · 158 Views
You may also like:
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
भली बातें
Dr. Sunita Singh
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
" REAL APPLICATION OF PUNCTUALITY "
DrLakshman Jha Parimal
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
भूख
Varun Singh Gautam
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
✍️रुसवाई✍️
'अशांत' शेखर
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
'अशांत' शेखर
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
चल रहा वो
Kavita Chouhan
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
स्वतंत्रता दिवस
KAMAL THAKUR
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण 'श्रीपद्'
सवालों के घेरे में देश का भविष्य
Dr fauzia Naseem shad
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
'अशांत' शेखर
दिल ने
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शेर
dks.lhp
Loading...