Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

बापू

बापू ने राह दिखाई थी……

बेड़ियों में थी देश की आज़ादी
अंग्रेज़ों से त्रस्त थी सारी आबादी
भटक रहे थे देश के लोग
जब तड़प रहे थे देश के लोग
तब बापू ने राह दिखाई थी……

ज़ुल्म और हिंसा का दौर चरम पर था
अंधकार ही अंधकार मचा था
स्वतंत्रता के सेनानी बिखरे हुए थे
जब नौजवानों के कदम उखड़े हुए थे
तब बापू ने राह दिखाई थी……

देश में एकता और अखंडता की कमी थी
माताओं और बहनों की आँखों में नमी थी,
देश पर जब अधिकार हमारा न था
जब हमारी आज़ादी अंग्रेज़ों को गवारा न था
तब बापू ने राह दिखाई थी……

“सत्य और अहिंसा” का पाठ बापू ने पढ़ाया
“अनेकता में एकता ” का मंत्र बापू ने दिया
“त्याग और बलिदान” से रहना बापू ने सिखाया
जब स्वच्छता की समाज को ज़रुरत थी
तब बापू ने राह दिखाई थी……
देश को आज़ादी दिलाई थी ….

1 Like · 160 Views
You may also like:
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
मेरे पापा
Anamika Singh
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
बंदर भैया
Buddha Prakash
यादें
kausikigupta315
Loading...